Skip to content

हनुमान जी की आरती lyrics

Aarti Hanuman Ji

हनुमान जी की आरती हिंदी/संस्कृत में लिरिक्स

hanuman aarti lyrics in hindi
Hanuman Aarti Lyrics

आरती कीजै हनुमान लला की।

दुष्ट दलन रघुनाथ कला की॥

जाके बल से गिरिवर कांपे।

रोग दोष जाके निकट न झांके॥

अंजनि पुत्र महाबल दाई।

सन्तन के प्रभु सदा सहाई॥

दे बीरा रघुनाथ पठाए।

लंका जारि सिया सुधि लाए॥

लंका सो कोट समुद्र-सी खाई।

जात पवनसुत बार न लाई॥

लंका जारि असुर संहारे।

सियारामजी के काज सवारे॥

लक्ष्मण मूर्छित पड़े सकारे।

आनि संजीवन प्राण उबारे॥

पैठि पाताल तो रिजम-कारे।

अहिरावण की भुजा उखारे॥

बाएं भुजा असुर दल मारे।

दाहिने भुजा संतजन तारे॥

सुर नर मुनि आरती उतारें।

जय जय जय हनुमान उचारें॥

कंचन थार कपूर लौ छाई।

आरती करत अंजना माई॥

जो हनुमानजी की आरती गावे।

बसि बैकुण्ठ परम पद पावे॥

लंका विध्वंस किये रघुराई I

तुलसीदास स्वामी कीरति गाई II

आरती कीजे हनुमान लला की I

दुष्ट दलन रघुनाथ कला की |

Jai Bajrang Bali

हनुमान जी की आरती हिंदी  PDF/Mp3 डाउनलोड

निचे दिए गए लिंक पर क्लिक कर हनुमान जी की आरती हिंदी PDF डाउनलोड करे.

If you want to download hanuman ji ki Aarti Hindi Lyrics PDF please click the link Below

हनुमान जी की आरती Lyrics Photo:

99f2bb0c7195225cdaff31036a401883
Hanuman ji ki aarti image