हनुमान जी की आरती lyrics

हनुमान जी की आरती हिंदी/संस्कृत में लिरिक्स

आरती कीजै हनुमान लला की।

दुष्ट दलन रघुनाथ कला की॥

जाके बल से गिरिवर कांपे।

रोग दोष जाके निकट न झांके॥

अंजनि पुत्र महाबल दाई।

सन्तन के प्रभु सदा सहाई॥

दे बीरा रघुनाथ पठाए।

लंका जारि सिया सुधि लाए॥

लंका सो कोट समुद्र-सी खाई।

जात पवनसुत बार न लाई॥

लंका जारि असुर संहारे।

सियारामजी के काज सवारे॥

लक्ष्मण मूर्छित पड़े सकारे।

आनि संजीवन प्राण उबारे॥

पैठि पाताल तो रिजम-कारे।

अहिरावण की भुजा उखारे॥

बाएं भुजा असुर दल मारे।

दाहिने भुजा संतजन तारे॥

सुर नर मुनि आरती उतारें।

जय जय जय हनुमान उचारें॥

कंचन थार कपूर लौ छाई।

आरती करत अंजना माई॥

जो हनुमानजी की आरती गावे।

बसि बैकुण्ठ परम पद पावे॥

हनुमान जी की आरती हिंदी  PDF/Mp3 डाउनलोड

निचे दिए गए लिंक पर क्लिक कर हनुमान जी की आरती हिंदी PDF डाउनलोड करे.

If you want to download hanuman ji ki Aarti Hindi Lyrics PDF please click the link Below

हनुमान जी की महिमा को आगे शेयर करें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *